ज्ञान–समान न आन जगत में सुख को कारण| इह परमामृतजन्म- जरा- मृतु रोग निवारण || || ...