श्री अरनाथ - जिनेन्द्र

श्री अरनाथ - जिनेन्द्र

शुचि स्वच्छ पटीरं , गंध - गहीरं , तंदुल शीरं पुष्प चरुं।
वर दीपं धूपं , आनंद रूपं , ले फल भूपं अर्घ करूँ।
प्रभु दीनदयालं , अरिकुल-कालं , विरद -विशालं सुकुमालम।
हनि मम जंजालं , हे जगपालं , अर - गुणमालं वरभालम।

।।ॐ ह्रीं श्री अरनाथ जिनेन्द्राय अनर्घ्यपद - प्राप्तये अर्घ्य निर्वपामीति स्वाहा।।